Pages

Monday, June 08, 2009

Gentle Reminder !!

Good Morniiiiiiiiiiiiiiing ...... Mumbai !
This is Jhanvi on World Space Radio.

जाने से पहले, ये है मेरा आज का ख्याल
उन सबके लिये, जो दौड़े जा रहे हैं इस शहर की दौड़ में

शहर की इस दौड़ में दौड़ के करना क्या है?
अगर यही जीना है दोस्तों, तो फिर मरना क्या है?
पहली बारिश में ट्रेन लेट होने की फिक्र है, भूल गए भीगते हुए टहलना क्या है?
सीरियल के किरदारों का सारा हाल है मालूम, पर माँ का हाल पूछने की फुरसत कहाँ है?

आप रेत में नंगे पाँव टहलते क्यूँ नहीँ?
एक सौ आठ हैं चैनल पर दिल बहलते क्यूँ नहीँ?
इंटरनेट पे दुनिया से तो टच में हैं, लेकिन पड़ोस में कौन रहता है जानते तक नहीँ!
मोबाइल, लैंडलाइन सब की भरमार है, लेकिन जिगरी दोस्त तक पहुँचे, ऐसा तार कहाँ है?

कब डूबते हुए सूरज को देखा था, याद है?
कब जाना था शाम का गुज़रना क्या है?
तो दोस्तों, शहर की इस दौड़ में दौड़ के करना क्या है?
अगर यही जीना है दोस्तों, तो फिर मरना क्या है?

the above piece is from the movie Lage Raho Munnabhai .... voiced by Vidya Balan.
putting it on my blog .. so that i can remind myself of these things every now and then ...

1 comment:

  1. very sweet!!
    though I have seen the movie, needed a reminder. would place it on my blog too. Thanks!!

    ReplyDelete